Hindi kavita | रोटी और स्वाधीनता | रामधारी सिंह दिनकर | 73rd Independence Day | trending


Happy independence day friends., Today on the eve of independence day, I am sharing a famous poetry by our national poet Ramdhari SIngh Dinkarji. This poetry inspires me a lot. It talks about new avenues to be explored. New thoughts, new flight and courage. I love hindi and admire hindi literature so much! This is my tribute to our rich literary work of our laureates. These past recent years we have achieved so much as a nation. We have sent Chandrayaan, abolish much awaited aricle 370 to form one India are some of them We all have to contribute in nation building in our own way. We have to think innovative ways to sustain our livelihoods. रोटी और स्वाधीनता – रामधारी सिंह ‘दिनकर’ स्वातंत्र्य गर्व उनका, जो नर फांको में प्राण गंवाते हैं,
पर, नहीं बेच मन का प्रकाश रोटी का मोल चुकाते हैं। स्वातंत्र्य गर्व उनका, जिनपर संकट की घात न चलती है
तुफानो में जिनकी मशाल कुछ और तेज़ हो जलती है। स्वातंत्र्य उमंगो की तरंग, नर में गौरव की ज्वाला है,
स्वातंत्र्य रूह की ग्रीवा में अनमोल विजय की माला है स्वातंत्र्य भाव नर का अदम्य, वह जो चाहे कर सकता है,
शासन की कौन बिसात, पाँव विधि की लिपि पर धर सकता है। जो कहे सोच मत स्वयं, बात जो कहूँ, मानता चल उसको,
नर की स्वतंत्रता की मणि का तू कह अराति प्रबल उसको। नर के स्वतंत्र चिंतन से जो डरता, कदर्य, अविचारी है,
बेड़ियां बुद्धि को जो देता है, जुल्मी है, अत्याचारी है। लक्ष्मण-रेखा के दास तटों तक ही जाकर फिर आते हैं, वर्जित समुद्र में नांव लिए स्वाधीन वीर ही जाते हैं। आज़ादी है अधिकार खोज की नयी राह पर आने का, आज़ादी है अधिकार नये द्वीपों का पता लगाने का। रोटी उसकी, जिसका अनाज, जिसकी जमीन, जिसका श्रम है,
अब कौन उलट सकता स्वतंत्रता का सुसिद्ध, सीधा क्रम है। आज़ादी है अधिकार परिश्रम का पुनीत फल पाने का,
आज़ादी है अधिकार शोषणों की धज्जियाँ उड़ने का। गौरव की भाषा नई सीख, भिखमंगो की आवाज बदल,
सिमटी बांहो को खोल गरुड़, उड़ने का अब अंदाज बदल। स्वाधीन मनुज की इच्छा के आगे पहाड़ हिल सकते हैं,
रोटी क्या ? ये अम्बरवाले सारे श्रृंगार मिल सकते हैं।

73 thoughts on “Hindi kavita | रोटी और स्वाधीनता | रामधारी सिंह दिनकर | 73rd Independence Day | trending

  1. 4th lk👍👍bhout badhiya dear👌🏻 Bharat Mata ki jai🙏

  2. Hello friends,
    Josh aur utsah se bharne wali panktiyan Dinkar ji ki.. Last tak dekhein jisse ki purpose jo hi kavita ki.. Dilon tak pahunchane ki..usmein safal ho…!

  3. Hello, my new friend! Good video! #239 me too plz..👍👌😍😘😘😘 and Have a nice day.

  4. Happy Independence day 🇮🇳🇮🇳 new friend just joined you hope you suport bk

  5. nice poetry mam because I love poetry and Humne bhi likhi hai poetry Apne life se related But main Sher nahin kar paati thank you for sharing big like

  6. Very beautiful video. .
    And your saree looks amazing too.
    Beautiful poem

  7. Like 16
    Apka me New friend hooo. Aro hama Hindi poet bohut he atcha lagta ha islya apko friend boniya. Apve muje support koru please

  8. Superbb mam bht accha bola apne and looking beautiful u re neckless is awsommm😊

  9. Waw, all lines r fine n fabulous
    Excellent

  10. Nice sharing👍👍😊
    Neww frnd here # 250❤
    i hope u do the same🤝👈❤

  11. Nice…..New friend #252👍👍 sub dn my friend ….Plz stay connected i hope u do same thanks…Jay hind jay bharat .

  12. Very nice poem 👌
    Keep it up 👍👍

    New friend…sub kr diya aap bhi sub kr do ma'am 🙏

  13. Happy independence day mam…Bahut achha laga apka speech.Thanks for sharing

  14. Wah !! Wah !! Madam Ji Kya Baat Hai.. Bahut Khoob. Chha Gaye. Ramdhari Singh Dinkar

  15. Hello dear friend, very nice video 👌 thanks for sharing 🌹 best of luck 👍🌷💚🌷💙🌷💚🌷💚🌷

  16. Me apka naya Frnd hu mra lv me ana ten baje raat ko bohut frnd milega

  17. Hello my friend good very nice good smile very very nice good life 👌👌👌👌👌👌👌

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *