Mein Ek Naam Nahi Hun | मैं एक नाम नहीं हूँ | Hindi Poetry | Anagamin


क्या तुम अच्छे हो? या तुम बुरे हो? तुम कौन हो अगर सिर्फ़ मनुष्य नहीं? मैं अच्छा इंसान नहीं हूँ मैं बुरा इंसान नहीं हूँ मैं इंसान हूँ सिर्फ़ एक मैं आधा भगवान नहीं हूँ तू कहे तो अच्छा हूँ तू कहे तो बुरा हूँ मैं तुझसे अनजान नहीं हूँ मैं राम नहीं हूँ अच्छा और बुरा शब्दों की पहचान हमारे रिश्तों की बुनियाद मैं एक विचार नहीं हूँ मैं पहचान नहीं हूँ मैं सम्मान नहीं हूँ चारों तरफ़ परखती नज़रें अपने आप से भागती नज़रें मैं हैरान नहीं हूँ मैं हालात नहीं हूँ ग़लती में धितकार जीत हो जयकार मैं पूरा स्वीकार नहीं हूँ मैं आधा प्यार नहीं हूँ मैं अच्छा इंसान नहीं हूँ मैं बुरा इंसान नहीं हूँ मैं इंसान हूँ सिर्फ़ एक मैं आधा भगवान नहीं हूँ तुम शब्द नहीं हो। शब्द जो दूसरे इस्तेमाल कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *