Poem for our Martyrs | Poem on Independence day | Poem on Indian Army for kids #IndependenceDay2019


नमस्कार। मेरा नाम है पविशना कश्मीर के पुलवामा में जो वीर शहीद हुए उनके लिए मैं एक कविता सुनाना चाहती हूं पुलवामा की धरती में, जिन वीरों का खून जला उनकी मां को नमन करें हम, जिनको ये बलिदान मिला उन आंखों की दो बुंदों से, समुद्रं भी हारे होंगे उन मेहंदी वाले हाथों से, मंगलसूत्र उतारे होंगे खून नहीं गर अब खौला तो खून नहीं वह पानी है अगर देश के काम ना आए तो बेकार ये जवानी है भारत में भी जो गद्दारों की टोली है भारत की रोटी खा कर वो पाक की हमजोली है धन्यवाद मेरी कविता सुनने के लिए हमे गर्व होना चाहिए कि भारत हमारा देश है और अपने देश की सेवा के लिए हमें तैयार रहना चाहिए

3 thoughts on “Poem for our Martyrs | Poem on Independence day | Poem on Indian Army for kids #IndependenceDay2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *